Dr Rahat Indori Shayari Gjab Shayari collection in hindi

Dr Rahat Indori Shayari Shayari 4 Love. पर आपका स्वागत है , मशहूर शायर डॉ राहत इन्दौरी साहब का नाम तो आपने जरूर सुना होगा , ये एक भारतीय उर्दू शायर और हिंदी फिल्मों के गीतकार हैं , डॉ राहत इन्दौरी साहब देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर में उर्दू साहित्य के प्राध्यापक भी रह चुके हैं.
दोस्तों Shayari 4 Love आपके लिए लेकर आये है Dr Rahat Indori Sahab की शायरी का बेहतरीन Collection यहाँ पर आप Rahat indori shayari status , Rahat indori shayari in hindi images , Rahat indori shayari hath daba bhi dena ,  , Rahat indori nafrat shayri , Rahat indori shayari kisi ke baap ka hindustan , Rahat indori shayari bulati hai par jane ka nahi. का आनंद ले सकते है.


Dr Rahat Indori Shayari - Rahat indori sad shayari 2 line Collection in Hindi :

Dr Rahat Indori Shayari

Dosti Jab Kisi se ki jaye.
Dushmano se bhi Ray Li Jaye.

दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए.

Naye safar ka naya intejam kah denge ,
Hava ko dhup , charago ko sham kah denge .

नए सफ़र का नया इंतज़ाम कह देंगे

हवा को धुप, चरागों को शाम कह देंगे

Sakho se tut jaye vo patte nahi hai ham,
Aandhi se koi kah de ki aukat me rahe.

शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे.

Vo Chahta tha ki kasa kahrid le mera,
Me us ke taj ki kimat laga ke laut aaya.

वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा
मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया.

Aankho me pani rakho, hotho pe chingari rakho ,
Jinda rahna hai to tarkibe bahut sari rakho.

आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो

जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो.

Sarhado par tnav hai kya ,
Jara pata karo chunav hai kya .

सरहदों पर तनाव हे क्या ,

ज़रा पता तो करो चुनाव हैं क्या.

Gulab , Khwab , Dava , Jahar , Jam kya kya hai ,
Me aa gya hu bata intejam kya kya hai,
Fakir, sah, kalandar , imam kya kya hai,
Tujhe pata nhi tera gulam kya kya hai.


dr rahat indori shayari , Rahat indori shayari status , Rahat indori shayari in hindi images , Rahat indori shayari hath daba bhi dena ,  , Rahat indori nafrat shayri , Rahat indori shayari kisi ke baap ka hindustan , Rahat indori shayari bulati hai par jane ka nahi.


गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम  क्या क्या हैं
में आ गया हु बता इंतज़ाम क्या क्या हैं
फ़क़ीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या क्या हैं
तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या हैं.

Ajnabi khwahishe sine me daba bhi na saku,
Aise jiddi hai parinde ki uda bhi na saku,
Fook dalunga kisi roj me dil ki duniya,
Ye tera khat to nahi hai ki jala bhi na saku.

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ
फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ.

Tufano se aankh milaon, sailabon pe war karo ,
Mallaho ka chakkar chodo, tair kar dariya paar karo ,,

Phoolon ki dukane kholo, khushbu ka vyapar karo ,


Ishq khata hain, to ye khata ek baar nahi, sau baar karo.

तुफानो से आँख मिलाओ, सैलाबों पे वार करो ,
मल्लाहो का चक्कर छोड़ो, तैर कर दरिया पार करो ,,

फूलो की दुकाने खोलो, खुशबु का व्यापर करो ,
इश्क खता हैं, तो ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो.


Kisi Ke Baap Ka Hindustan Thode Hi Hai  - Rahat Indori Shayari :

Agar khilaf hai , hone do , jan thodi hai,
Ye sab dhuna hai , koi aasman thodi hai,,

Lagegi aag to aayenge ghar kai jad me,
Yhan pe sirf hamara makan thodi hai,,

Me janta hu ki dushman bhi kam nahi,
Lekin hamari trah hatheli par jan thodi hai,,

Hamare muh se jo nikle vohi sadakat hai ,
Hamare muh me tumhari jban thodi hai,

Jo aaj sahib -e- mansad hai kal nahi honge,
Kirayedar hai jati makan thodi hai,,

Sabhi ke baap ka khoon shamil hai yhan ki mitti me,
kisi ke baap ka hindustan thodi hai.

अगर खिलाफ हैं, होने दो, जान थोड़ी है ,
ये सब धुँआ है, कोई आसमान थोड़ी है ,,

लगेगी आग तो आएंगे घर कई ज़द्द में ,
यहाँ पे सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है ,,

मैं जानता हूँ की दुश्मन भी कम नहीं ,
लेकिन हमारी तरह हथेली पे जान थोड़ी है ,,

हमारे मुंह से जो निकले वही सदाक़त है ,
हमारे मुंह में तुम्हारी जुबां थोड़ी है ,,

जो आज साहिब-इ-मसनद है कल नहीं होंगे ,
किराएदार है जाती मकान थोड़ी है ,,

सभी का खून है शामिल यहाँ की मिटटी में ,
किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है .

Rahat indori shayari bulati hai par jane ka nahi :

Bulati hai magar jane ka nahi,
Ye duniya hai idhar jane ka nahi ,,

Mere bete kisi se ishq kar ,
Magar had se gujar jane ka nahi ,,

jamin bhi sar pe rakhni ho to rakho ,
Chale ho to thahar jane ka nahi ,,

Sitare noch kar le jaunga ,
Me khali hath ghar jane ka nahi ,,

Vaba faili hui hai har traf ,
Abhi mahol mar jane ka nahi ,,

Wo gardan napta hai to nap le,
Magar Dushman se dar jane ka nahi .


बुलाती है मगर जाने का नहीं ,

ये दुनिया है इधर जाने का नहीं ,,

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर ,
मगर हद से गुज़र जाने का नहीं ,,

ज़मीं भी सर पे रखनी हो तो रखो ,
चले हो तो ठहर जाने का नहीं ,,

सितारे नोच कर ले जाऊंगा ,
मैं खाली हाथ घर जाने का नहीं ,,

वबा फैली हुई है हर तरफ ,
अभी माहौल मर जाने का नहीं ,,

वो गर्दन नापता है नाप ले ,
मगर जालिम से डर जाने का नहीं.

Rahat indori shayari hath daba bhi dena :


Raj jo kuch ho isharo me bata dena ,
Hath jab usse milao daba bhi dena ,,

Nasha vaise to buri she hai , magar ,
"Rahat" se sunni ho to thodi si pila bhi dena.

राज़ जो कुछ हो इशारों में बता देना ,
हाथ जब उससे मिलाओ दबा भी देना ,,

नशा वेसे तो बुरी शे है, मगर ,
“राहत”  से सुननी  हो तो थोड़ी सी पिला भी देना.


Rahat Indori Nafrat Shayari In Hindi : 

Ban ke ek hadsa bajar me aa jayega ,
Jo nahi hoga vo akhbar me aa jayega .

बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा ,
जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा .

Kabhi akele me milkar jhanjhod dunga use,
Jhan jhan se vo tuta hai jod dunga use ,,

Mujhe chod gya ye kamal hai uska,
irada maine kiya tha ki chod dunga use ,,

Pasine banta firta hai har traf suraj ,
Kabhi jo hath laga to nichod dunga use ,,

Maja chakha ke hi mana hu me bhi duiniya ko,
Samajh rahi thi ki aise hi chod dunga use .

कभी अकेले में मिलकर झंझोड़ दूंगा उसे,
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूंगा उसे ,,

मुझे छोड़ गया ये कमाल है उसका,
इरादा मैंने किया था कि छोड़ दूंगा उसे ,,

पसीने बांटता फिरता है हर तरफ सूरज,
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूंगा उसे ,,

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को,
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे .

उम्मीद करते है यहाँ पर दी गई "Dr Rahat Indori Shayari Gjab Shayari collection in hindi " शायरी आपको पसंद आई होगी. यदि आपको शायरी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरूर करे. धन्यवाद.

Dr Rahat Indori Shayari Gjab Shayari collection in hindi Dr Rahat Indori Shayari Gjab Shayari collection in hindi Reviewed by Virendra Singh on May 18, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.